Remedies to control cholesterol in Hindi-कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल के घरेलू उपाय

0
207
Remedies to control cholesterol

कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल करने के घरेलू उपाय

Remedies to control cholesterol हम में से ज्य़ादातर लोग कोलेस्ट्रॉल बढऩे से डरते हैं। डरें भी क्यों नहीं, क्‍यों कि इसके बढऩे का मतलब ही है, दिल की बीमारी, बलडप्रेशर की समस्या और डायबिटीज का खतरा। हालांकि इन बीमारियों के लिए सीधे तौर पर कोलेस्ट्रॉल जिम्‍मेदार नहीं है, आज कल की खाना पीना और रहन सहन भी जिम्मेदार हैं। कोलेस्ट्रॉल की समस्या दो प्रकार का होती है- बैड कोलेस्ट्रॉल और गुड कोलेस्ट्रॉल। गुड कोलेस्ट्रॉल यानी एचडीएल (हाई डेंसिटीलिपोप्रोटीन) हमारे दिमाग में मौज़ूदतंत्रिका कोशिकाओं को इंसुलेट करती है और कोशिकाओं के लिए ढांचा प्रदान करता है। जबकि बैड कोलेस्ट्रॉल यानी एलडीएल (लो डेंसिटीलिपोप्रोटीन) शरीर में रक्त प्रवाह को धीमा कर देता है, जिससे कार्डियोवैस्कुलर बीमारियां  शरीर को घेर लेती हैं।
(और पढ़ेंः How To Reduce Breast Size Naturally using home remedies in Hindi)

कोलेस्ट्रॉल को करें कंट्रोल

कोलेस्ट्रॉल को घटाने के लिए यह जरूरी है कि खाने में ऐसे पदार्थों का इस्तेमाल न किया जाए, जिनमें सैचुरेटेडफैट और ट्रांसफैट की मात्रा बहुत ज्य़ादा हो। कुछ घरेलू उपाय सेबैड कोलेस्ट्रॉल के प्रभाव को कम किया जा सकता है और यह आसान और सस्ता है।

प्याज

लाल प्याज कोलेस्ट्रॉल कम करने में सहायक होता है। एक रिसर्च के मुताबिक यह बुरे कोलेस्ट्रॉल को कम करके अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है।

एक चम्‍मच प्याज के रस में शहद डालकर सुबह पीने से फायदा मिलता है।

इसके अलावा एक कप छाछ या दही में एक प्याज को बारीक काट कर मिलाएं। इसमें नमक और काली मिर्च डालकर पिएं या रायता बनाकर लें। प्याज अपने खाने में शामिल करें।

अर्जुन के पेड़ की छाल

इस प्रकार के रोगी के लिए अर्जुन के पेड़ की छाल का सेवन बहुत लाभप्रद सिद्ध होता है। यह हृदय की सभी समस्‍याओं के लिए यह महत्वपूर्ण है।छाल का चूर्ण कपड़े से छानकर 3-3 ग्राम (आधा छोटा चम्मच) पानी के साथ सुबह-शाम सेवन करना चाहिए रोज। या अर्जुन की छाल को 500 मिली पानी में पकाये 200 मिली रहने पर गैस से उतार लें।इसको नियमित रूप से सुबह शाम 10-10 मिली ले। इससे ब्‍लड में बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रोल कम हो जायेगा, और साथ साथ खून के धक्के साफ हो जायेंगे।
(और पढ़ेंःHow to Remove Pimples During Summer in Hindi ( Best pimple cure ) )

लहसुन और अदरक

लहसुन को सुबह खाली पेट लेने से कोलेस्ट्रोल कम हो जायेगा। पर यह कम मात्रा में ले। इसके अलावा अदरक का प्रयोग करने से भी कोलेस्ट्रोल कम होता है। खाने में दोनों का इस्तेमाल करने से भी लाभदायक परिणाम मिलते हैं।

आंवला


Remedies to control cholesterol एक चम्‍मच आंवला पाउडर को एक गिलास गुनगुने पानी में मिलाकर लें रोजाना। आंवले को सुबह खाली पेट पीने से बहुत जल्द फर्क नजर आने लगता है।चाहें तो आंवले का ताजा रस निकाल कर रोजाना पिएं और इसमें पुदीना भी मिला सकते हैं।

संतरे का जूस

संतरे में विटमिन सी होता है, जो बैड कोलेस्ट्रॉल को घटाने में बहुत मददगार होता है। रोजाना 2-3 गिलास संतरे का ताजा जूस पीने से कोलेस्‍ट्रॉलजल्‍दी ही कंट्रोल हो जाता है और skin  दिक्कत नहीं होती है।

नारियल तेल


Remedies to control cholesterol नारियल तेल शरीर में वसा को कम करता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल नहीं बढ़ता। ऑर्गेनिक नारियल तेल को डाइट में रोज ज़रूर शामिल करें। इन सबके अलावा थोड़े थोड़े अंतराल पर कुछ न कुछ जरूर खाएं ताकि शरीर ठीक रहे।रोज 30-35 मिनट वर्कआउट करना भी जरूरकरे। तेज़ चलें, साइकिल चलाएं या कोईexerciseकरे।

कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल के लिए रेशेदार (फाइबर) भोजन

Remedies to control cholesterol

क्या है फाइबर (Fiber)

फाइबर (Fiber) शारीरिक स्वास्थ्य के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता और चयापचय में सुधार करने, रक्त शर्करा में नियंत्रित रखने, वजन को संतुलित रखने, मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करने एवं अन्य स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने के लिए आवश्यक होता है। मानव शरीर फाइबर का उत्पादन नहीं कर सकता है इसलिए शरीर को फाइबर (Fiber) की पूर्ति फाइबर युक्त आहार से की जाती है। फाइबर की कमी अनेक समस्याओं को जन्म दे सकती हैं, इसलिए प्रतिदिन एक निश्चित मात्रा में फाइबर का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

जहां तक संभव हो रेशेदार (फाइबर) भोजन को प्राथमिकता दें ताकि एचडीएल (हाई डेन्सिटीलिपोप्रोटीन) इस दिक्कत को नियंत्रित कर सके।

ओमेगा-3

जिस तेल में ओमेगा-3 भरपूर होता है जो एचडीएल को बढ़ाता है। आप इसका भी सेवन कर सकते हैं। ताजी सब्जियों, फल, सोयाबीन आदि का सेवन भी इस दिक्कत के लिए लाभदायक होता है। हो सके तो अलसी का प्रयोग करे।

ये करने  से बचे

  • पैक्‍डफूड जैसे आलू के चिप्स, मैदे से बने उत्पादों में ट्रांसफैट बहुतज्य़ादा होताहै।इन सभी चीज़ों का इस्तेमाल न करें।
  • कुकिंग ऑयल को बार-बार इस्तेमाल करने से ट्रांसफैट का स्तर काफी बढ़ जाता है,  एक या दो बार से ज्यादा इस्तेमाल नहीं करें।
  • रेडमीट, फुलक्रीम दूध और घी का इस्तेमाल न करें ताकि कोलेस्‍ट्रॉल कम हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here